Home » Anchoring Script for Annual Function in Hindi(College/School)

Anchoring Script for Annual Function in Hindi(College/School)

Anchoring Script in Hindi, Annual function script in hindi, manch sanchalan

जैसा कि हम सब जानते है कि Annual function school और college का पूरे साल का लेखा जोखा होता है। और annual function से ही school की एक अलग ही पहचान निकल कर बाहर आती है। इसलिए इस function की तैयारी बहुत जोरो शोरो से की जाती है।

तो आइए आज अब स्कूल और college की एंकरिंग को और interesting बनाते है और उसमें शब्दो से नयी जान लाने का प्रयास करते है

कार्यक्रम start होने से पहले हम खास अथिति का इंतज़ार करते है जिसके आने के बाद ही कार्यक्रम का आगाज़ होता है

तो हम जब तक अथिति अपना स्थान ग्रहण न कर ले तब तक तक आप कुछ ऐसा बोल सकते है।

कुछ ही समय मे कार्यक्रम चालू होने वाला है जब तक आप सब अपना स्थान ग्रहण कर ले ।

हमारे सभा मे उपस्थित सभी अथितिगण का सादर अभिनंदन, हमारे आज के chief guest प्रांगण में पधार चुके है, इनका जोरदार तालियो से स्वागत करे।

उसके बाद आप कार्यक्रम को start कर सकते है। कार्यक्रम के starting में आप एक मुक्तक बोल सकते है और कार्यक्रम का आगाज़ कर सकते है।

आईना आगाज़ है या आवाज़ है
प्रतिभाओं का जहाँ होता सम्मान है
सुर और ताल का संगम है
रंगों का सुंदर समागम है
संस्कृति से कराये जो पहचान है
एक नयी सोच का आगमन है
खुद में जो विश्लेषित है
और करे हम अपने कार्यक्रम को start है।

सर्वप्रथम सरस्वती पूजन और दीप प्रज्वलन के लिए में संस्थान के अध्यक्ष….……..,मुख्य अथिति…….. और प्राचार्य को आमंत्रित करती हूं।

झिलमिल सितारे सारे करते आपको वंदन है
पधारे गये अथितियो को हमारा सत सत अभिन्नन्दन है।

अब पधारे गए मुख्य अथिति……… का परिचय देने के लिए में …….. को आमंत्रित करती हूं।

जैसा कि हमारे मारवाड़ की परंपरा रही है कि हम अपने अथिति का स्वागत करने में हमेशा तत्पर रहते है-

में……. sir स्व निवेदन करुँगी की वो ……..sir का माल्यापर्ण कर स्वागत कर।

स्वागत की इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए में ……. sir से निवेदन करुँगी की वो ……… को साफा पहनाकर उनका स्वागत कर।

अब में college की प्रिंसिपल……… से निवेदन करती हूं वो sir को स्मृति चिन्ह देकर उनका स्वागत कर।

अब में mam से request करती हूं वो निर्णायक के रूप में अपना स्थान ग्रहण करे।
और में…..mam से रिक्वेस्ट करती हूं वो नियम संबंधी जानकारी की फ़ाइल mam को दे।

जैसा कि हमारे हिंदुस्तान की परंपरा रही है कि हम किसी भी कार्यक्रम की शुरुआत गणेश वंदना से करते है। तो में गणेश वंदना के लिए …….. और …….. को आमंत्रित करती हूं।

जिसका सबको था बेसर्बी से इंतज़ार
Candidates भी जिसके लिए तैयार
मंच पे मचाने धमाल और
Judges भी नंबर देने के लिए है बेकरार
चलो शरू करे डांस का प्रोग्राम

में …..को एकल नृत्य के लिए आमंत्रित करती हूं।

थैंक्स…. for the glorious performance

अब में कॉलेज की प्राचार्य ……. को निवेदन करती हूं वो उदबोधन स्वरूप दो शब्द कहकर हमे अनुग्रहित करे।
क्या चित्रण करू में mam आपका, आप खूद में विश्लेषित है
नारियल जैसी कठोर पर अंदर से सुरभित चंदन है।

अब मै आज की इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति …….sir से request करुँगी की वो दो शब्द कहे।

क्या तारीफ़ करू में sir आपकी, अल्फ़ाज़ भी कम पड़ जायेंगे
आपकी उपलब्धि को बताने लगी तो सुबह से शाम हो जायेंगी

बस इतना ही कहना चाहुगी-
न हर समुन्द्र में मोती सदा खिलते है
न हर मंज़र में दीप सदा जलते है
पर जिनके खिलने से समस्त उपवन खिल उठे
ऐसे पुष्प उपवन में सदियों बाद ही खिलते है।

एक दिव्य प्रकाश का दिव्य हाथों हुआ पदार्पण है
ज्योत से ज्योत सजी, सज गया भव्य प्रांगण है
तालियो की आवाज़ और अदभुत झंकारों से करे कार्यक्रम का शुभारंभ है
रंग बिखेरती किरणों का देखे आज हम समागम है।

अब हम सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ करते है।

अब में ……. सदन को अपनी प्रस्तुति देने के लिए आमंत्रित करती हूं।

………..
……

गतिशील करो चरणों को मंज़िल दूर नही है
कालचक्र गतिमान किसी का दास नही है
जीवन के हर पल को सार्थक कर डालो तुम
क्योंकि सांसो का पल भर का भी विश्वास नही है।

अब में परिणामो की घोषणा के लिए …. को मंच पे आमंत्रित करती हूं।

सबकी धड़कने थमी हुयी है
क्योंकि कुछ ही देर मे आने वाला है विजेताओं का नाम
इस पल का सबको है बेसर्बी से इंतजार
बिना देर किए mam अब घोषित करो result

अब में …..sir से request करुँगी की वो मंच पर आए और अथितियों का धन्यवाद ज्ञापन करे।

Read

Anchoring Script for Retirement:- https://nrinkle.com/2021/07/anchoring-script-poem-on-retirrement/

Useful tips for new writers:-https://nrinkle.com/2021/07/apna-likha-kaha-publish-kare-3-useful-tips-for-new-writers-where-to-publish-your-poems-online/