Home » सूर्य पर कविता | Poem On Sun In Hindi | बच्चो की कविता सूरज पर

सूर्य पर कविता | Poem On Sun In Hindi | बच्चो की कविता सूरज पर

  • by
सूर्य की कविता,poem on sun in hindi, सूरज पर प्यारी कविता,

गोल गोल है उसका आकार
अंधकार को करता है जो दूर
अपनी किरणों से करता नयी ऊर्जा का संचार
रोशनी से जो भर देता संसार।

रहता है जो मिलो दूर
धरती के मानो उस पार
आसमान का वो है पहरेदार
सृष्टि का वो ही है पालनहार।

सुखी जीवन का वो है राज़दार
कर्मठ बनने का वो है सन्देशकार
मधुर स्वर में कोयल कर रही है पुकार
उठ जाओ बच्चों, सवेरा कर रहा तुम्हारा इंतज़ार।

Vitamin D का उसमे है सार
फसलों का वो ही है आधार
उसके बिना कहा चल पाता व्यापार
किसानों का सबसे बड़ा है वो कारगार।

रंगों का करता है जब वो श्रृंगार
तो बन जाता इन्द्रधनुष का आकार
7 रंगों में विभाजित होकर
प्रकृति को पहनाता वो सुंदरता का हार।

गोलगोल है उसका आकार
Vitamin D का उसमे है सार
बताओ बच्चों क्या है उसका नाम
कैसे करोगे तुम उसकी पहचान।

Read:

Agar me titli hoti:-https://nrinkle.com/2019/08/hindi-poem-on-titli/

Poem on Birds in Hindi:-https://nrinkle.com/2021/07/poem-on-birds-in-hindi/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *