Home » Hindi poem -अगर में तितली होती

Hindi poem -अगर में तितली होती

Agar me titli hoti, poem on titli, titli rani poem, hindi kavita titli
Agar me titli hoti
अगर में तितली होती
तो यह आसमान मेरा होता
रंग बिरेंगी परिधानो से
यह श्रृंगार मेरा होता।
 
अगर में तितली होती
खूबसूरती की मिसाल मेरी होती
रंगों से महक फैलाती
इंद्रधनुष के रंग मेरे होते।
 
अगर में तितली होती
खुले आसमान का में एक परिंदा होती
न कोई रोक न कोई टोक होती
सपनो की बुनियाद मेरी होती।
 
अगर में तितली होती
सारे रंग मुझसे होते
सौंदर्य धरती पर होता
रंगों से पहचान मेरी होती।

3 thoughts on “Hindi poem -अगर में तितली होती”

  1. Pingback: Hindi Poem on Flower-फूल पर कविता - NR HINDI SECRET DIARY

  2. Pingback: Poem on Moon in Hindi-चंदा मामा पर कविता - NR HINDI SECRET DIARY

  3. Pingback: Importance of Mathematics in our Daily Life | Poem on Mathematics | Maths Kya hai?? - NR HINDI SECRET DIARY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *