Home » Annual Function Script for Kindergarten | Anchoring Script for Kindergarten Annual Day

Annual Function Script for Kindergarten | Anchoring Script for Kindergarten Annual Day

  • by

खुशियों ने नगमे बिखेरे,
सितारों ने महफिल लगाई है
इस ग्रेजुएशन सेरेमनी में तो
चंदा ने भी अपनी चारपाई लगाई है।।

A warm welcome to respected principal sir, our honourable chief guest and all my dear friends

As we all know, we gather here today for the graduation ceremony of our kindergarten students. Let’s bring all hands together for the beautiful day with beautiful morning with all beautiful and smiley faces and collect all these beautiful smileys, as these are our treasure, as memories remain behind as it’s time that these little champ are moving to next class, let’s scatter your wings and achieve your dreams, it’s time to boost our energy in today’s program with all your smileys..

सर्वप्रथम सरस्वती पूजन और दीप प्रज्वलन के लिए में संस्थान के अध्यक्ष….……..,मुख्य अथिति…….. और प्राचार्य को आमंत्रित करती हूं।

दीप प्रज्वलित हुए, हुआ नया सवेरा है
विद्यालय का प्रांगण रोशनी से हुआ उजयारा है
झिलमिल सितारे सारे करते आपको वंदन है
पधारे गए अथिति को मेरा सत सत अभिन्नन्दन है

कार्यक्रम की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए पधारे गए मुख्य अथिति…… और विद्यालय के प्राचार्य ….को stage पे आमंत्रित करती हूं और अनुरोध करती हूं कि वो ध्वजारोहण करे।

(ध्वजारोहण के बाद)
में पधारे गए अथतिगण, शिक्षकगण और विद्यार्थीयो से निवेदन करती हूं, की वो राष्ट्रगान के लिए अपने अपने स्थान पे खड़े हो जाइए।

Now I request principal mam to declare the 11 convection ceremony open

After opening

Thanku so much mam

अब में कॉलेज की प्राचार्य ……. को निवेदन करती हूं वो उदबोधन स्वरूप दो शब्द कहकर हमे अनुग्रहित करे।

क्या चित्रण करू में mam आपका, आप खूद में विश्लेषित है
नारियल जैसी कठोर पर अंदर से सुरभित चंदन है।

अब मै आज की इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति …….sir से request करुँगी की वो दो शब्द कहे।

सुबह की किरणें प्रस्फुटित होता जैसे आकाश है
वैसे ही आपके आगमन से विद्यालय में फैला नया प्रकाश है
अल्फ़ाज़ तो नही है मेरे पास अब कहने को
पर आप जैसे अथिति जिस प्रांगण में पधारे हो
उस कार्यक्रम में लग जाते चार चांद है।

खुशियों का पल आया है,
जीवन को बड़ा भाया है
चेहरे पे मुस्कुराहट
और graduation ceremony का दिन आया है
अठखेलियों से महकेगा आंगन
नन्हे नन्हे little champ का स्टेज पे होने वाला है आगमन
तालियों के साथ इन नन्हे बच्चो का करे हौसला अफजाई बारम्बार है
रंग बिखेरते थिरकते हुए अब आ रहे मंच पे नन्हे कलाकार है।

अब में chief guest sir से रिक्वेस्ट करती हु की वो बच्चो को मेडल और डिग्री प्रदान करे।

अब में नवीन sir से रिक्वेस्ट करती हु की वो सबका धन्यवाद ज्ञापित करे।

अंत में चार पंक्तियों से अपनी वाणी को विराम देती हु और इस दिन की सबको बधाई देती हु।

आज graduation ceremony की सबको हार्दिक बधाईयां देती हु
और उन्नति की राहों पे चलते रहो बस यही दुआ करती हु।