Home » 1.Poem on Environment in Hindi | पर्यावरण संरक्षण पर कविता

1.Poem on Environment in Hindi | पर्यावरण संरक्षण पर कविता

Hindi Poetry on Environment in Hindi,Hindi Poem on Nature,Rinkle poem

सूरज की पहली किरण शिखर पे रोशनी का आरोहण

रंग बिखरे खुशियो के नदियो का हो रहा सुन्दर संगम

हर तरफ सुनहरी धुप और हरयाली का समागम

समेट के किरणों को चंदा का हो रहा आगमन

विचलित हो मानव ने किया पर्यावरण पे प्रहार

अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए किया पर्यावरण का तिरस्कार

बेठा वो महलो में आपदाए हो रही हर और

भूकंप बाढ़ ज्वार का मिला हमें कीमती उपहार

दूषित हो रहा पर्यावरण हो रहा ओजोन परत का श्ररण

किसपे करे दोषारोपण स्वार्थी हो रहा संसार

खुद से ऊपर उठे करे दुनिया का श्रृंगार

तभी पर्यावरण की बाहो में हरयाली करेगी विराम।

2. पर्यावरण पर कविता | Hindi Poem on Nature | प्रकृति पर बच्चों के लिए कविता

चाँद की चाँदनी रात में सितारो के बीच

महकती इन फ़िज़ा में बादलो के बीच

लहराते हुए सागर में लहरो के बीच

मंडराते हुए भवरो में फुलो के बीच

चहकते हुए पक्षियो में पेड़ो के बीच

नीलगगन में उड़ते हुए पंछी के बीच

लहराती हुए खेत के फस्लो में किसानो के बीच

खुशी के दीप में जलते हुए गम के बीच

आसमान से टपकती हुए बारिश के बूँदो के बीच

अंधेरी रात के बाद सूरज की पहली किरण के बीच

बर्फ़ीले पहाड़ में ओस के बूँदो के बीच

धरती माँ के गोद में खिलते हुए फुलो के बीच

शिखर पे विराजित उस हिमालय के बीच

भयानक सी सुरंग में अंधेरी रात के बीच

गंगा यमुना जैसी पवित्र नदियो के बीच लगता है प्रकृति कितनी खूबसूरत है……………….    

2 thoughts on “1.Poem on Environment in Hindi | पर्यावरण संरक्षण पर कविता”

  1. Pingback: आसमान में इंद्रधनुष कैसे बनता है ? - NR HINDI SECRET DIARY

  2. Pingback: Poem on Parents in Hindi - NR HINDI SECRET DIARY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *