Home » Poem on Retirement in Hindi | सेवानिवृत्ति पर कविता | Touching Farewell Hindi Poem

Poem on Retirement in Hindi | सेवानिवृत्ति पर कविता | Touching Farewell Hindi Poem

  • by
poem on retirement in hindi, hindi poem on retirement

जिंदगी की दौड़ दौड़ते२ अब ठहराव आया है
सुनहरे पलो को जीने का उम्र का वह पड़ाव आया है।
ऑफिस की file पढ़ते२ अब विराम आया है
यह वक़्त पोते पोती, दोयता, दोयती के नाम आया है।

खुशिया बिखेरता यह पल आया है
परिवार भी देखो कैसे संग आया है
आंखों में आंसू भी लाया है
गम के बीच खुशियों को संग लाया है।

शुभकामनाओ की भेंट लाया है
तोहफ़ों की बौछार लाया है
सबका प्यार और स्नेह लाया है
आपके सम्मान में आसमान से बरसात लाया है।